गौ सेवा के बारे में

नगर निगम द्वारा संचालित देश की सबसे बड़ी गौ शाला-


एतिहासिक ग्वालियर शहर गायों की भूमि पर बसा है। जो ग्वाला ऋिषी की तपोभूमि भी है। जिस पर देश की पहली नगर निगम द्वारा संचालित सबसे बड़ी गौ शाला का संचालन किया जा रहा है। क्योंकि देश में कोई दूसरी नगर निगम को इस प्रकार का प्रकल्प संचालित करने का गौरव हासिल नहीं हैं। यहां करीब 6000 गौ वंश वाला खिड़क लाल टिपारा अब जन सहयोग और संतो के प्रबंधन से गौ धाम बन चुका है। जो देश की अन्य नगर निगमों के लिए आर्दश मॉडल है। जो भविष्य में मानव जाति की कई प्रकार की जरूरतों को पूरा कर घातक रोगों से बचाएगी। यहां कई प्रकार के नवाचार गौ शाला को आत्मनिर्भर बनाने के लिए शुरू किए गए हैं। गौ शाला को इस तरह विकसित किया जा रहा है कि लोगों को पीतांबरा पीठ और वृदांवन का अनुभव इसी गौ धाम में हो सके।